ब्रेकिंग BJP के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा का संगीन आरोप, कहा- ISI से जुड़े हैं बॉलीवुड के कुछ लोग                  
विज्ञापन                  गब्बर सिंह मालिक पशु पेंट बिचपुरी ब्लॉक राया                  गुड्डू चौधरी प्रधान प्रतिनिधि ग्राम आयरा खेड़ा ब्लॉक राया मथुरा                  लक्ष्मण सिंह प्रधान घड़ी परसा की ओर से समस्त जनपद वासियों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं                  रमेश कुमार गुप्ता प्रभारी बांदा राकेश कुशवाह झांसी                  संतोष मिश्र पंकज सिंह बाबू खान रमेश कुमार राजू खान बहराइच                  वर्षा सिंह लखीमपुर दानिश अली प्रभारी कन्नौज                  फराज खान लखीमपुर अभिषेक गुप्ता निघासन लखीमपुर                  तबस्सुम अंसारी सीतापुर आशीष गौड़ सीतापुर                  नसीम खान प्रभारी उत्तर प्रदेश बहराइच                  shah satnam ji engineering works new delhi all kinds shutter roiling ptti macine tarun mishra mo 9811935781                  
सपा प्रमुख ने कहा था कि फोन की जासूसी करवाकर लोगों की व्यक्तिगत बातों को सुनना निजता के अधिकार का घोर उल्लंघन
Delhi,(Delhi)(26-Jul-2021)

पेगासस जासूसी कांड (Pegasus Spyware Scandal) को लेकर कांग्रेस और समाजवादी पार्टी समेत सभी दल केंद्र की मोदी सरकार पर हमलावर हैं. इस बीच सपा के अध्‍यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने एक बार फिर भाजपा सरकार (BJP Government) पर हमला बोला है. उन्‍होंने कहा कि समाजवादी पार्टी जासूसी के सख्‍त खिलाफ है. यह जानना जरूरी है कि भाजपा को लोगों का भारी समर्थन हासिल है, उसके बाद भी जासूसी कराने की उसको क्यों जरूरत पड़ी. हम इस जासूसी के लिए जेपीसी (ज्वाइंट पार्लियामेंट्री कमेटी) की मांग करते हैं. इससे पहले सपा प्रमुख ने कहा था कि फोन की जासूसी करवाकर लोगों की व्यक्तिगत बातों को सुनना निजता के अधिकार का घोर उल्लंघन है. अगर ये काम भाजपा करवा रही है तो ये दंडनीय है. अगर भाजपा सरकार ये कहती है कि उसे इसकी जानकारी नहीं है तो ये राष्ट्रीय सुरक्षा पर उसकी नाकामी है. अखिलेश यादव ने फोन जासूसी एक लोकतांत्रिक अपराध बताया था. यही नहीं, अखिलेश यादव से पहले बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी जासूसी को लेकर निशाना साधते हुए जांच की मांग की थी. जानिए क्या है यह पूरा मामला? दरअसल 10 देशों के मीडिया समूह के कई पत्रकारों ने मिलकर एक खुलासा किया है जिसके तहत यह बात सामने आई है कि इजरायली कंपनी एनएसओ के स्पाईवेयर पेगासस के जरिए दुनियाभर की सरकारों ने नेताओं, मंत्रियों, जजों, पत्रकारों और प्रभावशाली लोगों की जासूसी कराई है. फ्रांस की एक संस्था ने इस बारे में जानकारी जुटाई है कि इजरायली जासूसी नेटवर्क का इस्तेमाल भारत में भी किया गया था. भारत के दो केंद्रीय मंत्रियों, 40 से अधिक पत्रकारों, विपक्ष के तीन नेताओं और एक मौजूदा न्यायाधीश सहित बड़ी संख्या में कारोबारियों और अधिकार कार्यकर्ताओं के 300 से अधिक मोबाइल नंबर हो सकता है कि हैक किए गए हों. यह रिपोर्ट आने के बाद पिछले काफी दिनों से हंगामा मचा हुआ है. जबकि संसद के मॉनसून सत्र का अधिकांश समय इसी घटना की वजह से विपक्षी सांसदों की जेपीसी बनाने की मांगी की वह से भेंट चढ़ रहा है.




Comments:







Visitor No. :

Visitor Count


प्राइम समाचार
बडी खबरे
खबरे अब तक
साक्षात्कार
स्पोर्टस
क्राइम
ब्लॉग
बॉलीवुड

Copyright © Samachar Prime 24 @ 2014-2021