ब्रेकिंग BJP के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा का संगीन आरोप, कहा- ISI से जुड़े हैं बॉलीवुड के कुछ लोग                  
विज्ञापन                  गब्बर सिंह मालिक पशु पेंट बिचपुरी ब्लॉक राया                  गुड्डू चौधरी प्रधान प्रतिनिधि ग्राम आयरा खेड़ा ब्लॉक राया मथुरा                  लक्ष्मण सिंह प्रधान घड़ी परसा की ओर से समस्त जनपद वासियों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं                  रमेश कुमार गुप्ता प्रभारी बांदा राकेश कुशवाह झांसी                  संतोष मिश्र पंकज सिंह बाबू खान रमेश कुमार राजू खान बहराइच                  वर्षा सिंह लखीमपुर दानिश अली प्रभारी कन्नौज                  फराज खान लखीमपुर अभिषेक गुप्ता निघासन लखीमपुर                  तबस्सुम अंसारी सीतापुर आशीष गौड़ सीतापुर                  नसीम खान प्रभारी उत्तर प्रदेश बहराइच                  shah satnam ji engineering works new delhi all kinds shutter roiling ptti macine tarun mishra mo 9811935781                  
शराब माफियाओं से निपटने के लिए आबकारी विभाग अब हर तहसील पर तैनात करेगा 1 इंस्पेक्टर 4 सिपाही और 2 हेड कांस्टेबिल
Lucknow,(Uttar Pradesh)(04-Sep-2021)

.जहरीली शराब कांड के बढ़ते मामलों को देखते हुए आबकारी विभाग अब तहसील स्तर पर निगरानी करेगा तहसील स्तर पर 1 इंस्पेक्टर, 4 सिपाही और 2 हेड कांस्टेबिल तैनात किए जाएंगे. अवैध शराब बनाने और बेचने वालों की धरपकड़ के लिए प्रवर्तन इकाई को वाहन भी उपलब्ध करवाया जाएगा. जिन सिपाहियों के पास रायफल नहीं है, उन्हें रायफल उपलब्ध करवाई जाएगी. ये बातें अपर मुख्य सचिव संजय आर भूसरेड्डी ने बताईं. दरअसल, पिछले दिनों आगरा में जहरीली शराब कांड के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन मामलों को सख्ती से रोकने के लिए आबकारी प्रवर्तन इकाइयों को मजबूत बनाने और स्थानीय स्तर पर उन्हें सक्रिय करने के लिए कार्ययोजना बनाने का निर्देश दिया था. आपको बता दें कि फिलहाल हर जिला आबकारी कार्यालय में दो वाहन उपलब्ध हैं, जिनमें से एक वाहन जिला आबकारी अधिकारी के पास रहता है और दूसरा किराये पर अनुबंधित वाहन प्रवर्तन इकाई के पास. पूरे जिले में शराब माफिया से निबटने के लिए ये साधन कम पड़ जाते हैं. अपर मुख्य सचिव के मुताबिक, हाल ही में 142 नए आबकारी निरीक्षक नियुक्त किए गए हैं. इनमें से 130 की संस्तुति हुई और 80 की ट्रेनिंग भी शुरू हो गई है. इन्हें सीयूजी मोबाइल फोन, पिस्टल और एक्साइज मैनुअल उपलब्ध करवाए जा रहे हैं. अपर मुख्य सचिव के मुताबिक, इस वित्तीय वर्ष के लिए आबकारी विभाग को 36000 हजार करोड़ रुपये के राजस्व प्राप्ति का लक्ष्य दिया गया है. शासन स्तर पर तय हुआ कि अवैध शराब बनाने, बेचने वालों के खिलाफ अंकुश के लिए विभाग की प्रवर्तन इकाइयां मजबूत बनाई जाएं. उन्हें जरूरी संसाधनों दिए जाएं और इस मद में 200 से 300 करोड़ रुपये खर्च किए जाएं.




Comments:







Visitor No. :

Visitor Count


प्राइम समाचार
बडी खबरे
खबरे अब तक
साक्षात्कार
स्पोर्टस
क्राइम
ब्लॉग
बॉलीवुड

Copyright © Samachar Prime 24 @ 2014-2021