ब्रेकिंग BJP के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा का संगीन आरोप, कहा- ISI से जुड़े हैं बॉलीवुड के कुछ लोग                  
विज्ञापन                  गब्बर सिंह मालिक पशु पेंट बिचपुरी ब्लॉक राया                  गुड्डू चौधरी प्रधान प्रतिनिधि ग्राम आयरा खेड़ा ब्लॉक राया मथुरा                  लक्ष्मण सिंह प्रधान घड़ी परसा की ओर से समस्त जनपद वासियों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं                  रमेश कुमार गुप्ता प्रभारी बांदा राकेश कुशवाह झांसी                  संतोष मिश्र पंकज सिंह बाबू खान रमेश कुमार राजू खान बहराइच                  वर्षा सिंह लखीमपुर दानिश अली प्रभारी कन्नौज                  फराज खान लखीमपुर अभिषेक गुप्ता निघासन लखीमपुर                  तबस्सुम अंसारी सीतापुर आशीष गौड़ सीतापुर                  नसीम खान प्रभारी उत्तर प्रदेश बहराइच                  shah satnam ji engineering works new delhi all kinds shutter roiling ptti macine tarun mishra mo 9811935781                  
जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज का 99 साल की उम्र में हुआ निधन
Delhi,(Delhi)(11-Sep-2022)

मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर में जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज ब्रह्मलीन हो गए हैं। उन्होंने लगभग 99 वर्ष की आयु में देह त्यागी है। झोतेश्वर परमहंसी गंगा आश्रम में स्वामी स्वरूपानंद का निधन हुआ है। कल झोतेश्वर परमहंसी आश्रम में अंतिम संस्कार हो सकता है। स्वामी स्वरुपानंद द्वारकापीठ और शारदापीठ के शंकराचार्य थे। स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का जन्म मध्य प्रदेश राज्य के सिवनी जिले में जबलपुर के पास दिघोरी गांव में ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनके माता-पिता ने इनका नाम पोथीराम उपाध्याय रखा था। महज 9 साल की उम्र में उन्होंने घर छोड़ धर्म की यात्रा शुरू कर दी थी। इस दौरान वो उत्तर प्रदेश के काशी भी पहुंचे और यहां उन्होंने ब्रह्मलीन श्री स्वामी करपात्री महाराज वेद-वेदांग, शास्त्रों की शिक्षा ली। आपको जानकर हैरानी होगी कि साल 1942 के इस दौर में वो महज 19 साल की उम्र में क्रांतिकारी साधु के रुप में प्रसिद्ध हुए थे। क्योंकि उस समय देश में अंग्रेजों से आजादी की लड़ाई चल रही थी। कांग्रेस से रिश्ते, साईं बाबा की पूजा के खिलाफ बताया जाता है कि 1300 साल पहले हिंदुओं को संगठित और धर्म का अनुयाई और धर्म उत्थान के लिए आदि गुरु भगवान शंकराचार्य ने पूरे देश में 4 धार्मिक मठ बनाये थे। इन चार में से एक मठ के शंकराचार्य जगतगुरु स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती थे जिनके पास द्वारका मठ और ज्योतिर मठ दोनों थे। 2018 में जगतगुरु शंकराचार्य का 95वां जन्मदिन वृंदावन में मनाया गया था। स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का जन्मवर्ष 1924 बताया जा रहा है। शंकराचार्य जगतगुरु स्वरूपानंद को कांग्रेस के तमाम नेता मानते थे जिसके चलते उन्हें कांग्रेस का भी शंकराचार्य कहा जाता था। स्वरूपानंद सरस्वती साईं बाबा की पूजा के खिलाफ भी थे और हिंदुओं से लगातार अनुरोध करते थे कि साईं बाबा की पूजा ना की जाए, क्योंकि वह हिंदू धर्म से संबंध नहीं रखते हैं।




Comments:







Visitor No. :

Visitor Count


प्राइम समाचार
बडी खबरे
खबरे अब तक
साक्षात्कार
स्पोर्टस
क्राइम
ब्लॉग
बॉलीवुड

Copyright © Samachar Prime 24 @ 2014-2022